MS Nashtar: कैसे बदल रहा है हिंदी सिखाने का तरीका

एमएस नश्तर एक हिंदी भाषा विशेषज्ञ हैं जिन्होंने देखा है कि जिस तरह से हिंदी शिक्षण बदल रहा है। उसने पाया है कि शिक्षण के पारंपरिक तरीकों को और अधिक नवीन तरीकों से बदला जा रहा है, जो अधिक प्रभावी साबित हो रहे हैं। 

उनका मानना है कि छात्रों की बदलती जरूरतों को पूरा करने के लिए यह बदलाव जरूरी है। वे कहते हैं कि अपने नए पीढ़ी को हिंदी सिखाने के लिए डिजिटल प्लेटफॉर्म का उपयोग करना आज के समय की सबसे बड़ी आवश्यकता है।

हिंदी शिक्षण का क्षेत्र कई तरह से बदल रहा है। एक के लिए, केवल लिखित हिंदी के विपरीत, बोली जाने वाली हिंदी को पढ़ाने पर अधिक ध्यान दिया जाता है। 

इसके अतिरिक्त, कक्षा में प्रौद्योगिकी का उपयोग अधिक प्रचलित होता जा रहा है, क्योंकि शिक्षक छात्रों को भाषा सीखने में मदद करने के लिए ऑनलाइन टूल और संसाधनों का उपयोग कर रहे हैं। 

हिंदी शिक्षकों के बीच भाषा सीखने में सांस्कृतिक संदर्भ के महत्व के बारे में जागरूकता बढ़ रही है, और शिक्षक तेजी से सांस्कृतिक तत्वों को अपनी कक्षाओं में शामिल करने के तरीकों की तलाश कर रहे हैं।

Dr. MS Nashtar इंटरनेट की दुनिया के, एक विश्व प्रसिद्ध ब्लॉगर हैं. उन्होंने अलग-अलग भाषाओं के Alphabets Letters रिसर्च किया है. भारत में अल्फाबेट के लिखे गए ज्यादातर पुस्तक उन्हीं के द्वारा लिखे गए हैं.

Magician of alphabet letters

पहली बार दुनिया में वर्णमाला किसने बनाया था? 

वर्णमाला इतिहास के सबसे महत्वपूर्ण आविष्कारों में से एक है। इसके बिना दुनिया की कल्पना करना मुश्किल है। लेकिन वर्णमाला का आविष्कार किसने किया?

कुछ लोग कहते हैं कि वर्णमाला का आविष्कार मूसा ने किया था। दूसरों का कहना है कि इसका आविष्कार प्राचीन मिस्रियों ने किया था। लेकिन वास्तव में इसका कोई साक्ष्य नहीं है।

वर्णमाला ने लोगों के संवाद करने के तरीके को बदल दिया। इससे लोगों के लिए अपने विचारों और विचारों को लिखना संभव हुआ। यह मानव इतिहास की एक बड़ी सफलता थी।

एमएस नश्तर जी कहते हैं कि, वर्णमाला का इतिहास एक लंबा और जटिल है। ऐसा माना जाता है कि पहली वर्णमाला फोनीशियन द्वारा बनाई गई थी, जो लेबनान में रहते थे।

फोनीशियन ने एक लेखन प्रणाली विकसित की जिसमें 22 अक्षरों का उपयोग किया गया था, जो उनकी भाषा की ध्वनियों पर आधारित था। 

लगभग 600 ईसा पूर्व, यूनानियों ने फोनीशियन वर्णमाला उधार ली और अपने स्वयं के कुछ अक्षर जोड़े। ये 26 अक्षर आधुनिक लैटिन वर्णमाला का आधार बने।

वे कहते हैं कि, साक्ष्य के अनुसार देखा जाए तो यह पहली बार 3,000 साल पहले प्राचीन मिस्र और मेसोपोटामिया में दिखाई दिया था।

एमएस नश्तर का नाम देश और विदेश में है

एमएस नश्तर एक हिंदी भाषा विशेषज्ञ हैं जिन्होंने भाषा विज्ञान के क्षेत्र में महत्वपूर्ण योगदान दिया है। उन्होंने हिंदी व्याकरण और वाक्य रचना पर कई किताबें और लेख लिखे हैं और उनके काम की उनके साथियों ने बहुत प्रशंसा की है। 

नश्तर जी का शोध हिंदी भाषा की संरचना पर केंद्रित है, और उसने हमारी समझ में महत्वपूर्ण योगदान दिया है कि यह भाषा कैसे काम करती है। हिंदी भाषियों को अपनी भाषा का अधिक प्रभावी ढंग से उपयोग करने में मदद करने में उनका काम महत्वपूर्ण रहा है।

एमएस नश्तर जी अपना जीवन भाषा के अध्ययन और प्रचार के लिए समर्पित कर दिया है। उन्होंने हिंदी व्याकरण और उपयोग के बारे में विस्तार से लिखा है, और देशी और गैर-देशी दोनों वक्ताओं के बीच भाषा को लोकप्रिय बनाने में एक प्रेरक शक्ति रही है। 

इसकी स्पष्टता और पहुंच के लिए विद्वानों और छात्रों द्वारा समान रूप से नश्तर के काम की प्रशंसा की गई है।

एमएस नश्तर जी ब्लॉगिंग के क्षेत्र के भी बड़े खिलाड़ी हैं

यही नहीं इंटरनेट पर बात की जाए तो अल्फाबेट से संबंधित 25 वेबसाइट पर उनके आर्टिकल आपको मिलेंगे. वेबसाइट के नाम निम्नलिखित हैं.

  1. Kulhaiya.com
  2. Hindisynonyms.com
  3. Alphabetsinhindi.com
  4. Purneaairport.com
  5. Nashterhighschool.com
  6. Onlinerupya.in
  7. Hindiletter.in
  8. Paisakaisekamaye.com
  9. Hindiletter.in
  10. Krishionline.in
  11. Seopost.in
  12. Sharemarketgyan.in
  13. Purnea.org
  14. Araria.org
  15. Brandingmitra.com
  16. Countinginwords.com
  17. Abcletters.us
  18. Arabicalphabets.org
  19. Allalphabets.us
  20. Signlanguagealphabets.com
  21. Greekletter.org
  22. Russianalphabets.com
  23. Rinkarj.com
  24. Latestdailynews.in
  25. Baraidgah.com
  26. Spanishalphabets.com.
निष्कर्ष

Hindiletter.in वेबसाइट के लिए गर्व की बात है इतने उच्च स्तर के लेखक हमारे साथ हैं. आशा करता हूं कि उनके द्वारा लिखे गए आपको बहुत पसंद आता होगा. यह वेबसाइट की पूरी टीम डा. एम एस नशतर सर को धन्यवाद करता है – वेबसाइट एडमिन.